• thephytologist@gmail.com
  • India

Makhana: The Fox Nut

Makhana [मखाना]  का  वानस्पतिक नाम यूरेल फेरॉक्स [Euryale ferox] और यह निम्फेसी कुल [Nymphaeaceae] के अंतर्गत आता है. साधारणत: इसे कमल के बीज के रूप में जाना जाता है. इन बीजों का सेवन कच्चे या पके हुए रूप में किया जा सकता है. मखाना का उपयोग औषधीय प्रायोजनों के साथ-साथ धार्मिक प्रायोजनों लिए भी किया जाता है. मखाना पोषक मान […]

Ragi: The Super Cereal

Ragi | रागी | Finger millet Ragi का वानस्पतिक नाम एल्युसिन कोरैकाना [Eleusine coracana (L.) Gaertn.] जिसे फिंगर मिलेट के नाम से भी जाना जाता है. Ragi दक्षिण एशिया और अफ्रीका के कुछ हिस्सों की एक महत्वपूर्ण अनाज है. यह पोएसी परिवार [Family: Poaceae] के अंतर्गत आता है आमतौर पर भारत में रागी नाम से जाना जाता है. इथियोपिया में […]

Traditional drink salfi: The Bastar Beer

सल्फी का वानस्पतिक नाम करिओटा उरेन्स [Caryota urens] है जो अरेकेसी परिवार से संबंधित है. Salfi उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में पाया जाने वाला यह वृक्ष विभिन्न नामों से जाना जाता है जैसे: श्रीताल, बन खजूर, भेरली माड़, माड़ी, सुरमाड, फिशटेल पाम, जागेरी पाम, ताड़ी पाम, ताड़ी आदि. यह एक सदाबहार पाम का पेड़ है जो लगभग 20 मीटर तक ऊँची होती है। इसका […]

Herbs Containing Water: Essential for Human Health

Water and The Life | पानी और जीवन Water (पानी) लगभग हर जीव के लिए बहुत आवश्यक है जिनका उपयोग किसी न किसी रूप में किया जाता है. कुछ जीवों के शरीर में 90% तक Water होता है इसीतरह एक वयस्क मानव शरीर में 60% तक पानी होता है. जर्नल ऑफ़ बायोलॉजिकल केमिस्ट्री में प्रकाशित शोधपत्र के अनुसार, मानव मस्तिष्क और हृदय 73% पानी से बना है. जहाँ फेफड़े लगभग 83% भाग पानी से बना होता है वहीँ […]

TEA Madness

Tea (चाय) चाय (Tea) वैश्विक स्तर पर सबसे लोकप्रिय पेय पदार्थ है. हमें चाय Camellia sinensis; Family: Theaceae के कोमल पत्तियों से प्राप्त होता है जिसे किणवन प्रक्रिया (Fermentation process) से तैयार किया जाता है.  Types of Tea विश्व स्तर पर चाय विभिन्न प्रकार की पाई जाती है किन्तु प्रसस्करण (Method of Processing) के आधार पर चाय को मुख्य 4 वर्ग में रखा […]

Giloy: The Anti-Viral Herb

आयुर्वेद में गिलोय के विशिष्ट औषधीय गुणों के कारण ‘अमृत’ की संज्ञा दी गई है. गिलोय [Tinospora cordifolia] विषाणु जनित रोगों में मुख्य रूप से उपयोगी है चूँकि पौधों का चिकित्सीय उपयोग 4000-5000 ईसा पूर्व पुराना है जिसमे भारत और चीन दवाओं के रूप में पौधों का उपयोग पहले से करते आ रहे है. इसी कड़ी में आज हम Giloy; The […]