• thephytologist@gmail.com
  • India
Phyto Facts
Health Benefits of Custard Apple (Sitafal)

Health Benefits of Custard Apple (Sitafal)

Custard apple, (जीनस एनोना) के अंतर्गत अब तक लगभग 160 प्रजातियों को चिन्हांकित किया जा चूका है. कस्टर्ड एप्पल का स्थानीय महत्व है जिसके अंतर्गत पारंपरिक दवाओं के रूप में किया जाता है. विश्व के विभिन्न हिस्सों में इसके अलग-अलग प्रजातियों की खाद्य फलों के लिए व्यावसायिक रूप से उगाया जाता है.

सीताफल की प्रजाति | Species of Custard Apple

United State Department of Agriculture (USDA) के डाटाबेस के अनुसार सीताफल के 9 प्रजातियों को खाने के योग्य पाया गया है जिसमे से 6 प्रजातियों की उपलब्धता विश्व स्तर है और 3 प्रजातियां किसी स्थान विशेष में ही पाई जाती है.

USDA के द्वारा बताये गये 9 प्रजातियों निम्नलिखित है…

  • Cherimoya- Annona cherimola Mill. (हनुमान फल)
  • Ilama- Annona diversifolia Saff.
  • Pond apple- Annona glabra L.
  • Mountain soursop- Annona Montana Macfed.
  • Soursop- Annona muricata L.
  • Annona- Annona purpurea Moc. & Sesse ex Dunal
  • Custard apple- Annona reticulata L. (रामफल)
  • Wild custard apple- Annona senegalensis Pers.
  • Sugar apple- Annona squamosa L. (सीताफल)

सीताफल
Picture available on wikimedia.org

रामफल
Picture credit: संदेश हिवाळे

हनुमान फल
Picture Credit: Juan Emilio Prades Bel

उद्भव केंद्र | Origin of custard apple

कुछ प्राचीन लेखों के अनुसार Custard apple (सीताफल) वेस्टइंडीज (West Indies) को इसका उद्भव केंद्र माना जाता है किन्तु इस पर मतभेद है, क्योंकि ग्वाटेमाला (Guatemala) और बेलीज (Belize) में जंगली किस्म का मिलना इसे दक्षिण अमेरिकी क्षेत्र का होने का दावा करता है.

सीताफल का मौसम | Season of Custard apple

यह एक मौसमी फल है अतः सालभर उपलब्ध नही होता. यह फल अगस्त से अक्टूबर तक भारतीय बाजारों में उपलब्ध होता है इसका आनंद लिया जा सकता है. परन्तु दक्षिण भारतीय राज्यों में सीताफल  मुख्यतः विजयादशमी (दशहरा) के बाद बाजार में आते हैं.

पोषकता मान | Custard apple calories

USDA के अनुसार प्रति 100 ग्राम सीताफल से निम्न पोषकता मान प्राप्त होता है…

कैलोरी 94

कुल वसा- 0.3 ग्राम

कोलेस्ट्रोल- 0 मि.ग्रा.

सोडियम- 9 मि.ग्रा.

पोटैशियम- 247 मि.ग्रा.

कुल कार्बोहाइड्रेट- 24 ग्राम

सुपाच्य रेशा- 4.4 ग्राम

प्रोटीन- 2.1 ग्राम

सीताफल का उपयोग | Uses of Custard apple

सीताफल और इसका पेड़ विभिन्न औषधीय प्रयोजनों के लिए जाना जाता है. पेड़ के विभिन्न हिस्सों जैसे छाल और बीज को जैविक कीटनाशक माना जाता है.  बीजों को कुचलने अत्यधिक जहरीला होता है, लेकिन प्राचीन समय में इसका उपयोग पेचिश और पेट की अन्य बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता था.

अफ्रीका और एशिया में सीताफल के बीज और छाल को एस्ट्रिंजेंट (Astringents) के रूप में उपयोग किया जाता है. इसके अतिरिक्त, पेड़ की छाल का उपयोग दांतों के दर्द को शांत करने के लिए आज भी पारम्परिक वैद्ध के द्वारा किया जाता है.

Custard apple के बीज और पत्तियों में जहरीले एल्कलॉइड होते हैं इसलिए, औषधि रूप में इसका सेवन बिना किसी योग्य चिकित्सक के नहीं किया जाना चाहिए. हमारी सलाह है कि किसी भी औषधीय उपायों को खुद उपयोग न करे सम्बंधित चिकित्सक की सलाह जरुर ले.

बीज और पत्तियों को मुंह के अंदर न चबाएं क्योंकि यह बहुत टॉक्सिक होते है. यदि गलती से इसके बीजों को बिना चबाएं निगल गया है तो खतरे की कोई बात नही है यह गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट से बाहर निकल जाता है.

सीताफल के स्वास्थ्य लाभ | Health benefits of custard apple

एंटी कैंसर यौगिक | Anti-Cancer properties

शरीफा के फ्लेवोनोइड में कैटेचिन, एपिकैटेचिन और एपिगैलोकैटेचिन मुख्य रूप से शामिल हैं. इनमें से कुछ फ्लेवोनोइड्स के कैंसर सम्बंधित अध्ययन में कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि को रोकते हुए पाया गया है.

एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि सीताफल में मौजूद कैटेचिन तत्व से स्तन कैंसर सेल का विकास 100% तक बाधित हो गया.

fruit, custard apple, organic

रोग प्रतिरोधकता बढाये | Immunity Booster

विटामिन सी से भरा होता है सीताफल, जो संक्रमण और बीमारी से लड़ने में सहायता करके प्रतिरक्षा को बढ़ाता है. मानव पर किये गए अध्ययनों से पता चलता है कि विटामिन सी उपयुक्त मात्रा सामान्य सर्दी/जुकाम के स्तर को काफी हद कम कर देता है.

मानसिक स्वास्थ्य | Helps to improve mental health

पाइरिडोक्सिन अर्थात विटामिन बी-6 का एक उत्कृष्ट स्रोत है. रोजाना 160 ग्राम या लगभग 1 कप सीताफल दैनिक आहार में शामिल करना अनुशंसित की गई है.

दरअसल विटामिन बी-6, सेरोटोनिन और डोपामाइन सहित न्यूरोट्रांसमीटर के निर्माण में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जो आपके मूड अच्छा करने में मदद करता है. साथ ही अन्य मानसिक विकारों जैसे अवसाद, चिडचिडापन, गुस्सा आदि को भी कम करने में मदद करता है.

एंटी ऑक्सीडेंट से भरपूर | Antioxidants properties

कुछ लाभदायक यौगिकों जैसे कौरेनोइक एसिड, फ्लेवोनोइड्स, कैरोटिनॉयड्स और विटामिन सी का शरीफा में पाया जाना इसे एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट बनाते हैं.

एंटीऑक्सिडेंट शरीर में free radicals से लड़ते हैं. इन free radicals के उच्च स्तर से ऑक्सीडेटिव तनाव होता है, जो गंभीर बीमारियों जैसे कैंसर और हृदय रोग का कारण बनते है.

इसके नियमित सेवन से ओक्सीडेटीव स्ट्रेस को कम किया जा सकता है साथ ही साथ हृदय रोग और कुछ कैंसर के जोखिम को कम कर सकते हैं.

रक्तचाप करे नियंत्रित | Regulate Blood pressure

पोटेशियम और मैग्नीशियम जैसे तत्व रक्तचाप को विनियमित करने में मदद करता है जो कि सीताफल में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है.

इन दोनों तत्वों के द्वारा रक्त वाहिकाओं के फैलाव को बढ़ावा मिलता हैं जिससे उच्च रक्तचाप को निम्न रक्तचाप में परिवर्तित करने में मदद करता है. इसे हम उच्च रक्तचाप से होने वाले दिल की बीमारी और स्ट्रोक का खतरा को कम करता है कह सकते है.

हानिकारक प्रभाव | Some harmful effect of Custard Apple

इसके लाभदायक गुणों के साथ कुछ हानिकारक प्रभाव भी देखे गये है जिनमे प्रमुख है:

  • जैसा की पहले ही बताया गया है कि इसमें बहुत कम मात्रा में विषाक्त यौगिक होते हैं. इसलिए बीज और पत्तियों के सेवन से दूर रहें.
  • एनोना प्रजातियों के फल में एनाकोनासीन (Annonacin) नामक विषाक्त तत्व पाया जाता है, जो मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र को प्रभावित कर सकता है. इसकी मात्रा बीज और छिलके में अधिक हो सकती है.
  • उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में हुए अध्ययनों के आधार पर पाया गया है की सीताफल के अधिक सेवन से पार्किंसंस रोग (Parkinson’s disease) का जोखिम बढ़ जाता है.
  • इस मौसमी फल का आनंद लेने के लिए यह सुनिश्चित करे कि खाने से पहले बीज और त्वचा को हटा दें इससे एनाकोनासीन के जोखिम को कम कर सकते है.
  • यदि पहले से ही पार्किंसंस रोग या तंत्रिका तंत्र से सम्बंधित किसी रोग से ग्रसित है तो सीताफल खाने से बचे. ऐसे लोगों उत्तम स्वास्थ्य के लिए सीताफल से दूर रहना ही सर्वोत्तम होगा.

Read some more articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.