• thephytologist@gmail.com
  • India
Home
Herbs and spices and their health benefits

Herbs and spices and their health benefits

दुनिया भर में हम जिस तरह से खाना पकाते हैं और उसका उपभोग करते हैं, उसमें मसालों की महत्वपूर्ण भूमिका होती हैं. प्रत्येक मसाले [Spices] का अपना स्वाद और सार होता है, और इसका जोड़ या चूक सचमुच एक व्यंजन को बना या बिगाड़ सकता है.

हम अपने दिन-प्रतिदिन के खाना पकाने में कई मसालों का उपयोग करते हैं, इनमें जीरा, काली मिर्च, हल्दी और धनिया के बीज जैसे साधारण तथा लोकप्रिय मसाले शामिल हैं.

प्राचीन काल में, भारत ने विदेशी मसालों [Spices] की तलाश में दुनिया के दूरदराज के हिस्सों से व्यापारियों को आकर्षित किया. इनमें से कई व्यापारी अपने हिस्से के साथ वापस चले लौट गए, जबकि कुछ तो यहीं बस गए.

भारतीय संस्कृति में मसालों की विशिष्ट भूमिका है. मसालों को कई स्वास्थ्य लाभ के लिए जाना जाता है; वास्तव में यह सिर्फ मसालों से कहीं बढ़कर है, जो पारंपरिक भारतीय घर में तैयार भोजन दुनिया भर में खाए जाने वाले स्वास्थ्यप्रद भोजन में से एक है.

मसाले में उल्लेखनीय पोषण मूल्य निहित होते हैं जो कि प्रमुख स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं.

मसालों की भूमिका | Role of Spices

कोई भी भोजन या नाश्ता सिर्फ भोजन का टुकड़ा नहीं होना चाहिए बल्कि जड़ी-बूटी [Herbs] और मसाले [Spices] स्वास्थ्य को बढ़ाते हुए भोजन को स्वादिष्ट बनाते हैं.

इसलिए जड़ी-बूटियों और मसालों के साथ नियमित रूप से खाना बनाना चाहिए साथ ही साथ यदि संभव हो तो एक बार में कई अवयव का उपयोग करे.

जड़ी-बूटियाँ जैसे- तुलसी, एक पौधे की पत्तियाँ होती हैं, जबकि मसाले  जैसे- दालचीनी, आमतौर पर किसी पौधे के बीज, छाल या जड़ होती है. दोनों का उपयोग भोजन के स्वाद के लिए किया जाता है, लेकिन शोध से पता चलता है कि वे स्वस्थ यौगिकों से भरे हुए हैं जिससे स्वास्थ्य लाभ प्राप्त होता है.

जड़ी बूटियों और मसाले सूजन [inflammation] से लड़ने की क्षमता रखते हैं जो शारीरिक कोशिकाओं को नुकसान से बचाती हैं. यह ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हर एक पौधे में फाइटोकेमिकल्स भरपूर मात्रा में होते है, जो कि स्वास्थ्यप्रद पौधे रसायन होती हैं.

अपने आहार में Herbs और Spices को शामिल करने का एक और लाभ है क्योंकि यह बहुत स्वादिष्ट होते हैं जो कि नमक, चीनी और अतिरिक्त वसा जैसे कम स्वस्थ अवयवों को कम करना आसान बनाते हैं.

सही मसाले चुनें | Choose the Real Spices

अक्सर देखा गया है कि कुछ जड़ी-बूटियों और Spices को पूरक [supplements] के रूप में बेचा जाता है, जैसे-  अजवायन का तेल या दालचीनी के अर्क का कैप्सूल. जब तक डॉक्टर supplements की सिफारिश नहीं करता इसे गोली के रूप में लेने के बजाय जड़ी बूटी या मसाले के रूप में खाना सबसे अच्छा है निर्णय हो सकता हैं.

कुछ शोध यह भी कहती हैं कि पूरक आहार के बारे में कोई नियम नहीं हैं और इस तरह के उत्पाद पर सरकार की बहुत कम निगरानी होती है. इसलिए ऐसे उत्पादों/कैप्सूल में उस चीज़ की उचित मात्रा होने की सम्भावना कम हो सकती है जिसका वह दावा करता है. साथ ही इसमें कुछ अस्वास्थ्यकर योजक हो सकते हैं.

जड़ी बूटियों और मसालों के साथ-साथ अन्य खाद्य पदार्थ जो खाए जा रहे हैं, स्वास्थ्य लाभ प्रदान करने के लिए मिलकर काम करते हैं.

हम यह नहीं जानते कि पूरक के रूप में एक घटक को लेने से आपको वही परिणाम मिलता है या नहीं.

Spices
Image by Taken from Pixabay

औषधीय और मसालों में अंतर | Difference Between Herbs and Spice

जब हम औषधीय पौधों के बारे में सोचते हैं तो “स्वादिष्ट” वास्तव में पहला शब्द नहीं होता है. हममें से अधिकांश निस्संदेह शक्तिशाली जड़ी बूटी, या छाल या जड़ों की एक अजीब सुगंधित टिंचर के एक गहरे हरे रंग की बूँद को चित्रित करते हैं.

यह वास्तव में एक गलत धारणा है, हालांकि, Spices – जिन्हें हम जानबूझकर अपने भोजन में बेहतर स्वाद के लिए जोड़ते हैं – आसपास के कुछ सबसे शक्तिशाली औषधीय पौधे ही होते हैं.

आयुर्वेदिक और पारंपरिक चीनी चिकित्सा में कुछ शुरुआती लोक उपचारों में एक या दूसरे प्रकार के मसाले शामिल थे. कालांतर में मसालों को शक्तिशाली दवाओं के रूप में चित्रित किया गया और कई साइड इफेक्ट्स से मुक्त थे.

सामान्य मसाले | Common Spice

हमारे खानों में मसालों का उपयोग किसी खाद्य पदार्थों को स्वाद या रंग देने के लिए किया जाता है और ये पौधे के बीज, जड़, कलियों, छाल, राल या फलों से प्राप्त होते हैं.

कुछ सबसे आम मसालों में शामिल हैं: मोटी सौंफ़, जीरा, इलायची, अजवाइन, दालचीनी, लौंग, धनिये के बीज, जीरा, डिल बीज, सौंफ, अदरक/सोंठ, सरसों, जायफल, काली मिर्च (कई किस्में), केसर, हल्दी इत्यादि.

Related Articles