• thephytologist@gmail.com
  • India
Ethnomedicine
Jimikand: A traditional food for good health

Jimikand: A traditional food for good health

Jimikand को नकदी फसल के रूप में उगाई जाती है. इसकी अनुप्रस्थ संरचना और हाथी के पैर के समान दिखाई देने के कारण Elephant Foot Yam कहा जाता है.

यह अपने उच्च पोषक मूल्य और कई स्वास्थ्य लाभों के लिए बड़े पैमाने पर उपयोग किया जाता है. जैसे, कब्ज, ऐंठन, आंतों की गर्मी और मोशन आदि. साथ ही यह कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और वजन घटाने में सहायक होने के लिए बहुत प्रभावी माना जाता है.

यह धमनी और नसों की रुकावट से भी छुटकारा दिलाता है. मधुमेह रोगियों के लिए रक्त शर्करा को कम करने की क्रिया के लिए अच्छा है.

जिमीकंद पोटेशियम, मैग्नीशियम, सेलेनियम, जिंक, फॉस्फोरस और कैल्शियम जैसे न्यून तत्वों का भी एक समृद्ध स्रोत है, जो एकाग्रता और स्मृति में सुधार करने में मदद करता है.

यह शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मददगार है साथ ही यह एक अच्छा एंटी-इंफ्लेमेटरी एजेंट होने के अलावा डिटॉक्सिफायर भी है.

आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रणाली में Jimikand का उपयोग उल्टी, कष्टार्तव [Dysmenorrhea], थकान, कब्ज, बवासीर, अपच, सूजन, ट्यूमर, एलिफेंटिएसिस, गठिया और अन्य के उपचार में किया जाता है. स्वस्थ हार्मोनल स्तर को बनाए रखने में भी जिमीकंद उपयोगी है.

जिमीकंद पौधे के बारे में | About The Jimikand Plant

जिमीकंद को वैज्ञानिक रूप से Amorphophallus paeoniifolius के रूप में जाना जाता है, जो Araceae परिवार से संबंधित है। इसे White spot giant arum भी कहा जाता है। इसका पौधा प्रतिवर्ष वर्षा ऋतु की शुरुआत में बढ़ता है.

यह एक बैंगनी पुष्पक्रम धारण करता है और परागण करने वाले कीड़ों को आकर्षित करने के लिए एक तीक्ष्ण गंध के साथ तरल का स्राव करता है.

जिमीकंद पोषण मूल्य | Nutritional Value of Jimikand

भरपूर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन होने के कारण इसे एक अच्छा प्रधान भोजन की संज्ञा दी जाती है. इसके अन्य रासायनिक घटक बीटा-सिटोस्टेरॉल, जाइलोज, ल्यूपोल, गैलेक्टोज, बेटुलिनिक एसिड, एमाइलेज, स्टिग्मास्टरोल आदि शामिल है.

इन घटक के अलावा जिंक, फॉस्फोरस, पोटेशियम, विटामिन बी6, कैल्शियम, विटामिन ए और अन्य भी उच्च स्तर के साथ मौजूद होते हैं.

पौधे में विशेषकर स्टेरॉयड, फिनोल, एल्कलॉइड, फ्लेवोनोइड और एंबीलोन पाए जाते हैं. दुनियाभर में इसे त्वरित ऊर्जा देने वाले खाद्य पदार्थ के रूप में जाना जाता है क्योंकि इसमें लगभग 5% प्रोटीन, 18-24% कार्बोहाइड्रेट और  लगभग 72% पानी होता है.

एक 100 ग्राम Jimikand में 95% कार्ब, 1% वसा और 4% प्रोटीन होता है. इससे लगभग सौ तरह के व्यंजन बना सकते है. Elephant foot yam (जिमीकंद) के सर्वोत्तम स्वास्थ्य लाभ नीचे दिए गए हैं.

जिमीकंद के श्रेष्ठ स्वास्थ्य लाभ | Best Health Benefits of Jimikand

1. कोलेस्ट्रॉल स्तर को कम करे | Jimikand Reduces Cholesterol Level

शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए जिमीकंद के सेवन की सलाह दी जाती है. इसमें मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड कम तथा बहुत कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन के स्तर को कम करते हुए शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाने में मदद करता है.

2. थक्कारोधी और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण | Anticoagulant and Anti-inflammatory Properties

एक प्रभावी रक्त थक्कारोधी के रूप में दिल के दौरे के जोखिम को कम करने में सहायक होता है. यह धमनियों और नसों में बनने वाले थक्कों से राहत दिलाने में भी मदद करता है.

यह क्रिया उच्च रक्तचाप और कोरोनरी धमनी रोग जैसी आगे की जटिलताओं को कम करने में भी सहायक होती है.


Jimikand
Image by: herbalkart.in

3. कैंसर को रोकने के लिए | Diet to Prevent Cancer

न केवल ओमेगा-3-फैटी एसिड और एंटीऑक्सिडेंट बल्कि डायोसजेनिन यौगिक को भी कैंसर कोशिकाओं के निर्माण को रोकने में बहुत प्रभावी पाया गया है जो कैंसर के जोखिम को कम करने तथा प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करने में भी मदद करता है.

4. मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए जिमीकंद की सब्जी का प्रयोग | Use Jimikand to Control Diabetes

मधुमेह रोगियों के आहार में इसकी व्यापक रूप से सिफारिश की जाती है क्योंकि Jimikand की सब्जी कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है. यह रक्त शर्करा को धीरे-धीरे बढ़ाता है. कुछ रिसर्च इंसुलिन को बढ़ावा देने वाली क्रिया में भी पाए गए हैं.

5. उदर विकारों के इलाज के लिए जिमीकंद | For Gastrointestinal Disorders

यह सभी प्रकार के कब्ज के उपचार में उपयोगी माना जाता है. जिमीकंद दस्त, पेचिश के इलाज में भी सहायक है और प्रोबायोटिक्स के पूरक द्वारा जठरांत्र संबंधी मार्ग में अच्छा स्वास्थ्य बनाए रखता है.

अन्य उपयोग | Other Uses

उपरोक्त सभी स्वास्थ्य लाभों के अलावा इसका उपयोग करी में किया जा सकता है जो कि दुनिया के कुछ हिस्सों में एक प्रमुख मुख्य भोजन है.

इसका उपयोग शकरकंद की तरह ही चिप्स, फ्राइज़, स्टॉज, सूप, कैसरोल आदि बनाने के लिए किया जाता है. ब्रेड के स्लाइस बनाने के लिए इसे आटे के रूप में भी व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है. ज्यादातर लोग इसे उबला हुआ या बेक करके खाना पसंद करते है.

दुष्प्रभाव और एलर्जी | Side-Effects & Allergies

अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, साइनस संक्रमण या सर्दी से पीड़ित रोगियों में जिमीकंद का शीतलन प्रभाव स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है इसलिए यह सलाह दी जाती है कि इन समस्या से ग्रस्त रोगियों को जिमीकंद खाने से बचना चाहिए.

इस सब्जी की प्रकृति काफी खुजलीयुक्त होती है और इसे खाने पर मुंह और गले में खुजली की अनुभूति हो सकती है. गर्भवती महिलाएं इसे गर्भावस्था के दौरान खा सकती हैं, इससे उनके मातृ स्वास्थ्य पर कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है.

Further Readings

1 thought on “Jimikand: A traditional food for good health

Leave a Reply

Your email address will not be published.