• thephytologist@gmail.com
  • India
Burning Issues
Medicinal use and abuse of opium poppy

Medicinal use and abuse of opium poppy

आज विश्वपटल पर अफगानिस्तान एक ज्वलंत मुद्दा है किन्तु इस लेख का उद्देश्य अफगानिस्तान  में हो रहे राजनीतिक गतिविधियाँ नही बल्कि यहाँ उत्पादित विश्वविख्यात Opium [अफीम] की औषधि महत्त्व पर प्रकाश डालना है.

वैश्विक स्तर पर अफगानिस्तान अफीम का सर्वोच्च उत्पादक देश है. इसके अलावा किसी अन्य देश में इसकी खेती व्यावसायिक स्तर पर नही की जाती है.

अफगानिस्तान को दुनिया भर में अफीम की खेती की राजधानी की संज्ञा दी जाती है, जो दुनिया की हेरोइन [Heroin] की आपूर्ति का लगभग तीन-चौथाई हिस्सा है.

Opium [अफीम] एक अत्यधिक मादक पदार्थ है जो अफीम अर्थात Opium poppy के बीज की फली से प्राप्त लेटेक्स को सुखा कर प्राप्त की जाती है. Opium का वानस्पतिक नाम Papaver somniferum है.

हेरोइन अफीम में पाए जाने वाले मॉर्फिन एल्कलॉइड से प्राप्त होता है. बिना पकी हुई Opium की फली को थोड़ी सी चीरा लगा कर खोली जाती है जिसके कारण रस रिसकर फली की बाहरी सतह पर सूख जाता है.

परिणामस्वरूप पीले-भूरे रंग का लेटेक्स, जो फली से निकाला जाता है, स्वाद में कड़वा होता है. इसमें अलग-अलग मात्रा में अल्कलॉइड जैसे मॉर्फिन, कोडीन, थेबाइन और पैपावरिन मौजूद होते हैं.

इसी तरह सिंथेटिक या अर्ध-सिंथेटिक Opium में फेंटेनल [Fentanyl], मेथाडोन [Methadone], ऑक्सीकोडोन [Oxycodone] और हाइड्रोकोडोन [Hydrocodone] शामिल हैं.

अफीम की ऐतिहासिक पृष्टभूमि | Historical background of Opium

इतिहासकारों की माने तो अफीम का इतिहास 3400 ईसा पूर्व का है, जब इसकी खेती और उपयोग के पहले रिकॉर्ड ज्ञात हैं. इसका उपयोग प्राचीन यूनानियों और रोमनों द्वारा एक शक्तिशाली दर्द निवारक के रूप में किया जाता था.  

यह दक्षिण पूर्व एशिया में उगाया गया था और सुमेरियों द्वारा ” joy plant” या हुल गिल के रूप में जाना जाता था.

अश्शूरियों और मिस्रियों ने भी अफीम की खेती की और इसने यूरोप और चीन के बीच सिल्क रोड [Silk Route] के साथ यात्रा की, जहां यह 1800 के अफीम युद्धों की शुरुआत में शामिल था.

अफीम के गढ़ कुछ ऐसे स्थान होते थे जहां अफीम को खरीदा और बेचा जा सकता था. साथ ही यह दुनिया भर में भी पाए जाते थे, खासकर दक्षिण पूर्व एशिया, चीन और यूरोप में.

अमेरिका में १८०० के दशक में, अफीम को पश्चिम में भी उगया जाने लगा जैसे, सैन फ्रांसिस्को से  चाइनाटाउन तक और पूर्व में न्यूयॉर्क तक.

चीनी अप्रवासी जो रेलमार्ग और सोने के काम के लिए यू.एस. आए थे, वे अक्सर अपने नशीले और दर्द निवारक प्रभावों के लिए अफीम अपने साथ लाते थे.

खसखस और औषधि परीक्षण | Opium poppy seeds and drug testing

दरअसल Opium का पौधा एक फूल वाला पौधा है जिसका उपयोग बगीचे में अपने सुंदर फूलों के लिए किया जाता है, अक्सर लाल, गुलाबी, बैंगनी, नारंगी या सफेद.

इससे प्राप्त बारीक़ बीजों को खसखस कहा जाता है. खसखस का उपयोग बेकिंग में किया जाता है और यह भारतीय मसालों में अहम् भुमिका निभाता है.

खसखस में थोड़ी मात्रा में अफीम की मात्रा होती है और खसखस ​​खाने से शायद ही कभी ड्रग टेस्ट में सकारात्मक परिणाम मिलते हैं. आमतौर पर, प्रसंस्करण के दौरान ही अधिकांश अफीम को खसखस ​​से निकाल दिया जाता है.

हालांकि, यू.एस. एंटी-डोपिंग एजेंसी (यूएसएडीए) के अनुसार, दवा परीक्षण मॉर्फिन थ्रेशोल्ड स्तर के लिए जिम्मेदार होगा. यूएसएडीए के अनुसार, पेस्ट्री, बैगल्स, मफिन और केक जैसे बेक आइटम से खसखस ​​का सेवन करने के दो दिन बाद तक मूत्र में मॉर्फिन और कोडीन का पता लगाया जा सकता है.

अफीम टिंचर [Paregoric] ओपिओइड वर्ग में एक प्रिस्क्रिप्शन दवा है, और इसे अनुसूची II और III में मादक वस्तु के रूप में वर्गीकृत किया गया है. इस दवा का उपयोग मल त्याग की संख्या और आवृत्ति को कम करके दस्त को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है.

यह चिकनी मांसपेशियों की टोन को बढ़ाकर और आंतों में द्रव स्राव को कम करने का काम करता है. यह आंतों के माध्यम से आंत्र पदार्थ की गति को धीमा कर देता है.

Opium Poppy
Image by Eugenio Cuppone from Pixabay

हेरोइन का दुरुपयोग | Abuse of Opium Poppy

हेरोइन [Diacetylmorphine] अफीम में पाए जाने वाले मॉर्फिन एल्कलॉइड से प्राप्त होता है और लगभग 2 से 3 गुना अधिक शक्तिशाली होता है. एक अत्यधिक नशीली वस्तु है.

Heroin को नियंत्रित पदार्थ अधिनियम 1970 के तहत वर्गीकृत किया गया है जिसे अनुसूची 1 अंतर्गत रखा गया है. इस अधिनियम के तहत संयुक्त राज्य अमेरिका में इसका कोई स्वीकार्य चिकित्सा उपयोग नहीं है.

शुद्ध हेरोइन एक सफेद पाउडर है जिसका स्वाद कड़वा होता है. हेरोइन का सेवन करने वालों को दवा की वास्तविक ताकत या वास्तविक सामग्री के बारे में पता नहीं होता है  इसलिए अक्सर ओवरडोज के कारण मौत का खतरा होता है.

अंतररास्ट्रीय बाजारों में अधिकांश हेरोइन अवैध रूप से ही खरीदी व बेची जाती है. बेहद नशीली वस्तु होने के कारण दुनियाभर में इसपर प्रतिबन्ध लगाया गया है.

साधारणतया यह सफेद या भूरे रंग के पाउडर के रूप में बेचा जाता है जिसे चीनी, स्टार्च, पाउडर दूध, या कुनैन जैसे अन्य पदार्थों के साथ या स्ट्राइकिन या अन्य जहरों से भी मिक्स किया जाता है.

इसका एक अन्य रूप जिसे “ब्लैक टार” के रूप में जाना जाता है जो रूफिंग टार, कोयले की तरह कठोर या चिपचिपा हो सकता है. इसका रंग गहरे भूरे से काले रंग में हो सकता है जिसे धूम्रपान या सूंघने के लिए उपयोग किया जाता है.

खसखस का औषधीय उपयोग | Medicinal use of poppy seeds

खसखस विशेष रूप से मैंगनीज से भरपूर होता है, जो हड्डियों के स्वास्थ्य और रक्त के थक्के के लिए महत्वपूर्ण एक ट्रेस तत्व है. यह खनिज शरीर को अमीनो एसिड, वसा और कार्ब्स का उपयोग करने में भी मदद करता है.

बिना धुले खसखस में मॉर्फिन, कोडीन और थेबाइन तत्व पाए जाते हैं जिनका उपयोग दर्द निवारक दवा के रूप में किया जाता है. हालाँकि बिना धुले खसखस का सेवन जोखिम भरा है इसलिए इसका सेवन केवल चिकित्सकीय देखरेख में ही किया जाना चाहिए.

ओपियम के बीजों से प्राप्त तेल हृदय रोग के जोखिम को कम करने में मदद करता है. यह घाव भरने में भी मदद करता है साथ ही साथ पपड़ीदार त्वचा के घावों को रोकने में भी मदद करता है.

इसके अलावा खसखस और खसखस का तेल पाचन में सुधार करता है और पेट सम्बन्धी बीमारी के जोखिम को कम करता है. प्रजनन क्षमता बढ़ाने वाले चिकित्सा उत्पाद बनाने में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है. बहरहाल, इस सभी औषधीय महत्व पर और अधिक अध्ययन आवश्यक हैं और विश्वभर के शोधकर्ता इस पर अध्ययन कर रहे हैं.

Further Readings

1 thought on “Medicinal use and abuse of opium poppy

Comments are closed.