• thephytologist@gmail.com
  • India
Phyto Facts
TEA Madness

TEA Madness

Tea (चाय)

चाय (Tea) वैश्विक स्तर पर सबसे लोकप्रिय पेय पदार्थ है. हमें चाय Camellia sinensisFamily: Theaceae के कोमल पत्तियों से प्राप्त होता है जिसे किणवन प्रक्रिया (Fermentation process) से तैयार किया जाता है. 

Types of Tea

विश्व स्तर पर चाय विभिन्न प्रकार की पाई जाती है किन्तु प्रसस्करण (Method of Processing) के आधार पर चाय को मुख्य 4 वर्ग में रखा गया है जिसमें Black tea, Oolong tea, Green tea and White tea शामिल है.

Chemical Constituent

चाय को Caffeinated Beverages (कैफीनयुक्त पेय) माना गया है. Research से पता चला है कि चाय की पत्तियों में 2–5% तक caffeine और कम मात्रा में Theobromine और Theophyline भी पाया जाता है. 

इसके अलावा Catechins, Theaflavins, Thearubigins, Flavonols, Phenolic acids, Amino acids, Methylxanthines, Carbohydrates, Proteins, Mineral matter और Volatiles substances अलग-अलग मात्रा में पाया जाता है.

Tea benefits
Image Credit: pixabay.com

Medicinal Value's

इस क्षेत्र में हो रहे Research से पता चला है कि चाय (Tea leaves) का उपयोग Anti-obesity, Anticancer, Antimicrobial, Anti-inflammatory, Anti-diabetic, Cardioprotective, Neuroprotective, Osteoprotective, Renoprotective and Prebiotic जैसे घातक रोगों के उपचार में किया जा रहा है.

Harmful effect's of Tea

चाय के औषधीय महत्त्व के साथ-साथ कुछ हानिकारक प्रभाव (Harmful effects) भी है जो इसके अत्यधिक सेवन के कारण दिखाई देता है. जैसे:

1. Black Tea

Black tea का excessive consumption, precipitation of digestive enzymes, affects useful microflora of intestine और कभी-कभी यह iron absorption को  reduced भी कर देता है. Research में पाया गया है कि Black tea का अधिक सेवन Rectum cancer और body में fluoride toxicity level को भी increase कर देता है.

Oolong tea का अधिक सेवन pancreatic lipase के कार्यक्षमता को प्रभावित करता है. साथ ही इससे diabetes बढने की सम्भावना अधिक होती है. मधुमेह रोगी को इसका सेवन नही करना चाहिए.

2. Oolong Tea

3. Green Tea

आजकल ग्रीन टी का सेवन में काफी वृद्धि देखी जा रही है. ख़ास कर महिलाओं में वजन कम या नियंत्रित करने के लिए इसका use तेज़ी से किया जा रहा है. किन्तु यहाँ यह जानना भी जरुरी है कि इसके उपयोग से human body पर harmful effects भी देखे गए है जैसे Hepatotoxicity, Oxidative stress एक आम बात है. Study में पाया गया है कि इससे mitochondrial toxicity का खतरा काफी बढ जाता है. साथ ही कुछ side effects जैसे Headache, Nausea, Muscle pain भी होता है.

White Tea अधिक सेवन से शरीर में Reduced iron absorption की समस्या देखी गई है.

4. White Tea

Addiction of Tea

हमें पता है कि चाय का अधिक सेवन हमारे लिए नुकसान दायक है फिर भी हम इसका उपभोग करते रहते है. इस Addiction का कारण है चाय में पाया जाने वाला Caffeine.

कैफीन (Caffeine) पौधों में पाया जाने वाला एक अल्कोलोइड (Alkaloid)है.  यह बहुत से पौधों में पाया जाता है किन्तु चाय और काफी (Coffee) में इसकी मात्रा अधिक होती है.

कैफीन एक केंद्रीय तंत्रिका प्रणाली [Central Nervous System (CNS)] उत्तेजक है जो मेथिलक्सैन्थिन वर्ग (Methylxanthine class) से संबंधित है, और दुनिया में सबसे अधिक व्यापक रूप से सेवन किया जाने वाला मनोदैहिक भोजन (psychoactive food) है.

चुकिं कैफीन (Caffeine) हमारे Central Nervous System (CNS) को सीधे प्रभावित करता है जिसकी वजह से हमारे शरीर को इसकी तलब लगती जो आगे चलकर एक नशा (Addiction) के रूप में दिखाई देती है. इसीलिए हम इसे चाह कर भी छोड़ नही पाते है.  

Best Drink Tea or Coffee?

कैफीन (Caffeine) की मात्रा दोनों में होती है जो शरीर को तरोताज़ा (Refresh) करने कि ताकत रखता है. चाय के मुकाबले कॉफी में कैफीन (Caffeine) की प्रतिशत मात्रा कम होती है इसलिए लोग इसे बड़े मग (Mug) भर पीते है. 

जो Refreshment कॉफी के एक मग में मिलता है वह चाय के एक कप में आसानी से प्राप्त हो जाता है. यह लोगों को लेने वाले स्वाद पर निर्भर करता है कि वह किसे preference देता है. 

Conclusion

चाय या कॉफ़ी दोनों ही मानव शरीर के लिए लाभदायक है यदि इसे नियंत्रित मात्रा में सेवन करे. जरुरत से ज्यादा नुकसानदायक होता हो.

You can also read this....

22 thoughts on “TEA Madness

Comments are closed.