Home
Know about 8 Nutritional Facts of Kismis (Raisin)

Know about 8 Nutritional Facts of Kismis (Raisin)

Kismis [किशमिश] सामान्य तौर पर लगभग हर के किचन में आसानी से दिखा जा सकता है. जब अच्छी सेहत और डाइट की बात करते है तो खाने में सूखे मेवे [dry fruit] शामिल करने की सलाह दी जाती है जिसमे किशमिश का नाम सर्वप्रथम लिया जाता है.

किशमिश न केवल स्वास्थ्यप्रद, स्वादिष्ट होता है बल्कि इसमें कैलोरी और शर्करा के रूप में आवश्यक पोषक तत्वों, खनिजों और ऊर्जा की भरपूर मात्रा होती है.

किशमिश में पोषक तत्व | Nutritional facts of Kismis

ऐसे कई तत्वों किशमिश में पाये जाते है जो आपको जरुर जानने चाहिए. Kismis सेवन के अच्छे और बुरे दोनों तरह के Risk से बचने के लिए इस लेख को जरुर पढ़ें.

संयुक्त राज्य कृषि विभाग (यूएसडीए) विश्वसनीय स्रोत के अनुसार, 40-50 ग्राम किशमिश में निम्न पोषक तत्वों की मात्रा पाई जाती है:

कैलोरी – 129

प्रोटीन – 1.42 ग्राम

वसा – 0.11 ग्राम

कार्बोहाइड्रेट – 34.11 ग्राम

शर्करा – 28.03 ग्राम

आहार फाइबर – 1.9 ग्राम

इसके अलावा निम्न विटामिन और खनिज भी शामिल हैं:

विटामिन सी – 1.0 मिलीग्राम

कैल्शियम – 27 मिलीग्राम

आयरन – 0.77 मिलीग्राम

मैग्नीशियम – 15 मिलीग्राम

पोटेशियम – 320 मिलीग्राम

फॉस्फोरस – 42 मिलीग्राम

सोडियम – 11 मिलीग्राम

चीनी और कैलोरी की मात्रा | Sugar and calories on Kismis

अलग-अलग ब्रांड के Kismis में sugar और कैलोरी की मात्रा भी भिन्न होती है. फिर भी एक अध्ययन पर गौर करें तो डेढ़ कप किशमिश में लगभग 217 कैलोरी पाई जाती जो 47 ग्राम चीनी के बराबर होती है. इसलिए इसे “Nature’s Candy” की संज्ञा दी जाती है.

यदि आप Low Calorie और सुगर फ्री डाइट लेना चाहते है तो इससे सेवन से बचें और एक साथ कितने किशमिश खा रहे हैं, इस पर अवश्य नज़र रखें.

रेशा की मात्रा | Kismis Fiber

डेढ़ कप किशमिश से लगभग 3.3 ग्राम फाइबर प्राप्त होती है जो दैनिक आवश्यक मात्रा का लगभग 10 से 24 प्रतिशत तक होता है. आहार में फाइबर की उचित मात्रा कब्ज को रोकने में मदद कर सकता है.

इससे मिलने वाली फाइबर कोलेस्ट्रॉल के स्तर में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है जो कि खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए जाना जाता है.

आयरन की मात्रा | Iron on Kismis

किशमिश आयरन का बहुत अच्छा स्रोत है जहाँ डेढ़ कप किशमिश में 1.3 मिग्रा तक आयरन की मात्रा पाई जाती है. आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया को रोकने के लिए आपको पर्याप्त आयरन खाने की आवश्यकता होती है जिसे Kismis पूर्ण कर सकता है.

कैल्शियम और बोरान | Calcium and boron

प्रति आधा कप Kismis से लगभग 45 मिग्रा. कैल्शियम की उपलब्धता होती है. यह कैल्शियम की दैनिक जरूरतों का लगभग 4 प्रतिशत होता है. सर्वविदित है कि कैल्शियम हड्डियों और दांतों को स्वस्थ और मजबूत करने के लिए आवश्यक होता है.

इसी तरह किशमिश में ट्रेस तत्व बोरॉन की एक उच्च मात्रा होती है. बोरोन हड्डियों और जोड़ों को स्वस्थ रखने के लिए विटामिन डी और कैल्शियम के साथ काम करता है और ऑस्टियोपोरोसिस [Osteoporosis] के इलाज में भी एक मुख्य भूमिका निभाता है.

एंटीऑक्सीडेंट | Antioxidants

प्राकृतिक रूप किशमिश [Raisins] में फिनोल और पॉलीफेनोल्स प्रचुर मात्रा में होती है इन पोषक तत्वों को एंटीऑक्सीडेंट माना जाता है. एंटीऑक्सिडेंट रक्त से मुक्त कणों [free radicals] को हटाने में मदद करते हैं और कोशिकाओं को नुकसान होने से रोक सकते हैं.

एंटीमाइक्रोबियल तत्व | Antimicrobial compounds

कुछ अध्ययनों से पता चला है कि raisins में मौजूद फाइटोकेमिकल्स स्वस्थ दांतों और मसूड़ों को बढ़ावा दे सकते हैं. मुख्य रूप से इसमें ओलीनोलिक एसिड [Oleanolic acid], लिनोलिक एसिड [Linoleic acid], और लिनोलेनिक एसिड [Linolenic acid] शामिल हैं.

ये तत्व मुंह के बैक्टीरिया को कम करने में कारगर होते है. इसलिए किसी मीठे स्नैक फूड के स्थान पर Kismis खाने से आपकी मुस्कान स्वस्थ रह सकती है.

किशमिश सेवन के लाभ | Benefits of Kismis

1. पाचन में सुधार | Improve digestion

पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में Kismis मदद करता है. यह सबसे आसान और सरल तरीका है. किशमिश में मौजूद घुलनशील फाइबर कब्ज में अविश्वसनीय सुधार करता है.


Kismis
Image by Aravindh Senthilvel from Pixahive

2. एनीमिया से बचाव करें | Prevent anemia

Raisins एनीमिया को रोकने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है क्योंकि इनमें उचित मात्रा में आयरन, जिंक और विटामिन होते हैं. जो लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने और पूरे शरीर में ऑक्सीजन के विस्तार के लिए आवश्यक होते हैं.

3. एसिडिटी से छुटकारा | Kismis Prevent from acidity

आयरन, कॉपर, मैग्नीशियम और पोटेशियम जैसे लाभकारी खनिजों की पर्याप्त मात्रा होती है किशमिश में. इन खनिजों की मदद से पेट में अम्लता के स्तर को संतुलित किया जा सकता है.

4. हृदय रोग के जोखिमों को कम करे | Minimize heart disease risk factors

नियमित रूप से किशमिश खाने से हृदय रोग संबंधी जोखिमों, जैसे कि ब्लड प्रेशर दर. ऐसा इसलिए है क्योंकि raisins में सोडियम की मात्रा कम तथा पोटेशियम की उचित मात्रा होती है. यह रक्त वाहिकाओं को आराम करने में मदद करता है.

5. कैंसररोधी अवयव | Anticancer element

उपरोक्त तथ्यों में बताया गया है कि किशमिश एंटीऑक्सीडेंट यौगिकों का भी एक अच्छा स्रोत है.

आहार में एंटीऑक्सिडेंट संबंधी तत्व का होना नितांत आवश्यक हैं, क्योंकि वे शरीर को ऑक्सीडेटिव क्षति और मुक्त कणों से बचा सकते हैं. ऑक्सीडेटिव क्षति और मुक्त कण कई प्रकार के कैंसर, ट्यूमर के विकास और उम्र बढ़ने के लिए जिम्मेदार होते है.

6. आँखों के स्वास्थ्य के लिए | Kismis good For eye health

कई तरह के विटामिनों के साथ ही साथ पॉलीफेनोल्स पाए जाते है, जो एंटीऑक्सिडेंट की भूमिका निभाते है. यह आंखों के विकारों से बचाने में मदद करता है, जिसमें उम्र से संबंधित धब्बेदार अध:पतन और मोतियाबिंद शामिल है.

7. त्वचा के लिए उत्तम | Excellent for skin health

एंटीऑक्सिडेंट त्वचा के कोशिकाओं को युवा रखने और उम्र बढ़ाने वाली कोशिकाओं को नुकसान से बचाने में मदद करता हैं. Raisins में विटामिन सी, सेलेनियम और जिंक जैसे मूल्यवान पोषक तत्व भी होते हैं.

एक आहार में पोषक तत्वों और एंटीऑक्सिडेंट का यह संयोजन त्वचा के अच्छे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक सिद्ध होते है.

8. ब्लड शुगर नियंत्रित करे | Control blood sugar

रोजाना एक निश्चित मात्रा में किशमिश खाने से रक्त शर्करा को कम करने में मदद मिल सकती है. भले ही किशमिश में ताजे फल की तुलना में शर्करा की अधिक मात्रा होती है.

इसका मतलब यह है कि किशमिश का सेवन मिठापन की लालसा को संतुष्ट करने का एक शानदार तरीका हो सकता है.

किशमिश खाने के साइड इफ़ेक्ट | Side effect of eating Kismis

जबकि Kismis आमतौर पर फायदेमंद होते हैं, कभी-कभी यह अच्छा स्नैक साबित नहीं होता है.

उदाहरण के लिए, कैलोरी प्रबंधन कर रहे लोगों को इसे अधिक मात्रा में खाना लाभ के जगह हानिकारक प्रभाव दिखा सकता है. यहाँ यह जानना जरुरी है कि एक छोटे किशमिश में एक ताजे अंगूर के समान ही कैलोरी होती है.

इसके अलावा बहुत अधिक किशमिश खाने का तात्पर्य है कि बहुत अधिक मात्रा में घुलनशील फाइबर ग्रहण करना. बहुत अधिक फाइबर गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल [gastrointestinal] परेशानियाँ उत्पन्न कर सकता है, जैसे कि पेट में ऐंठन, गैस, और सूजन. कुछ लोगों को दस्त भी लग सकते हैं.

एक निश्चित मात्रा में लेते रहिये, आमतौर पर किशमिश का आनंद लेना सुरक्षित है.

यह भी पढ़े | Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CommentLuv badge