Burning Issues
Black Fungus: Symptoms and Treatments in Hindi

Black Fungus: Symptoms and Treatments in Hindi

Black Fungus या म्यूकरमायकोसिस एक फफूंदजनित संक्रमण से होने वाली जटिलता है. वातावरण में मौजूद इस कवक के बीजाणुओं के संपर्क में आने वाले लोग म्यूकोर्मिकोसिस के शिकार हो जाते है.

Black Fungus हानिकारक प्रभाव का अंदाजा इस बात के लगाया जा सकता है कि यह fungus मानवीय त्वचा के कटने, खरोंचने, जलने या अन्य प्रकार के घाव के माध्यम से त्वचा में प्रवेश कर, त्वचा पर ही विकसित हो सकता है.

इस बीमारी का पता उन मरीजों में लगाया जा रहा है जो कोविड-19 से ठीक हो रहे हैं या ठीक हो चुके हैं. इसके अलावा, जो कोई भी मधुमेह से पीड़ित है तथा जिसकी प्रतिरक्षा प्रणाली काफी  कमजोर हो, उन लोगों को इससे सावधान रहने की आवश्यकता है.

ब्लैक फंगस संक्रमण का कोविड-19 से क्या संबंध है? | How is the black fungus infection related to Covid-19?

यह रोग म्यूकोरमायसेट्स [Mucormycetes] नामक सूक्ष्म जीवों के एक समूह के कारण होता है, जो पर्यावरण में प्राकृतिक रूप से मौजूद होते हैं. विशेषतौर पर मिट्टी, पत्तियों, खाद जैसे कार्बनिक कम्पोस्ट में देखे जा सकते हैं.

सामान्यत: हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली ऐसे फफूंदजनित संक्रमणों [Fungal Infection] से सफलतापूर्वक लड़ती है. हालांकि, कोविड-19 हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को बहुत अधिक प्रभावित करता है, इसलिए ऐसे लोगों को खतरा अधिक होता है.

अक्सर देखा गया है कि कोरोना रोगियों के उपचार में डेक्सामेथासोन [Dexamethasone] जैसी दवाओं का सेवन शामिल होता है, जो हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली की प्रतिक्रिया को दबा देती है. फलस्वरूप म्यूकोरमायसेट्स जैसे कारकों के खिलाफ उचित प्रतिरोधकता उत्पन्न नहीं कर पाते और नए जोखिम का सामना करना पड़ता है.

इसके अलावा, जहां ह्यूमिडिफायर [Humidifier] का उपयोग किया जाता है, वहां आईसीयू में ऑक्सीजन थेरेपी से गुजरने वाले कोरोना रोगियों को नमी के संपर्क में आने के कारण फंगल संक्रमण का खतरा होता है.  लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि हर कोविड मरीज म्यूकरमायकोसिस से संक्रमित हो जाएगा.

ब्लैक फंगस सामान्य लक्षण क्या हैं? | What are the common symptoms of black fungus?

म्यूकरमायकोसिस माथे, नाक, चीकबोन्स आंखों और दांतों के बीच स्थित एयर पॉकेट्स में त्वचा के संक्रमण के रूप में प्रकट होने लगता है. संक्रमण की तीव्रता के साथ ही साथ यह आंखों, फेफड़ों में फैल जाता है और मस्तिष्क तक भी फैल सकता है.

नाक के ऊपरी त्वचा पर कालापन या रंग फीका पड़ जाता है, धुंधली या दोहरी दृष्टि, सीने में दर्द, सांस लेने में तकलीफ और खून की खांसी जैसे लक्षण हो सकती है.

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च [ICMR] ने सलाह दी है कि बंद नाक के सभी मामलों को बैक्टीरियल साइनसिसिस [bacterial sinusitis] के मामलों के रूप में नहीं माना जाना चाहिए, खासकर कोविड -19 रोगियों के उपचार के दौरान/बाद में. इस फंगल संक्रमण का पता लगाने के लिए चिकित्सकीय सहायता अवश्य लेनी चाहिए.


Black fungus
Image from: www.wnpr.org

इसका इलाज कैसे किया जाता है? | How is it treated?

निम्नलिखित बिंदु शामिल है…

  • जैसा कि देखा गया है, संक्रमण सिर्फ एक त्वचा संक्रमण से शुरू हो सकता है, और शरीर के अन्य भागों में फैल सकता है.
  • उपचार में शल्य चिकित्सा द्वारा सभी मृत और संक्रमित ऊतकों को हटाना शामिल है. कुछ रोगियों में, इसके परिणामस्वरूप ऊपरी जबड़ा या कभी-कभी आंखों के लिए गंभीर साबित हो सकती है.
  • इलाज में एक intravenous anti-fungal therapy 4-6 सप्ताह का कोर्स भी शामिल हो सकता है. चूंकि यह शरीर के विभिन्न हिस्सों को प्रभावित करता है, इसलिए उपचार के लिए माइक्रोबायोलॉजिस्ट, आंतरिक चिकित्सा विशेषज्ञों, गहन न्यूरोलॉजिस्ट, ईएनटी विशेषज्ञों, नेत्र रोग विशेषज्ञों, दंत चिकित्सकों, सर्जन और अन्य की एक टीम की आवश्यकता होती है.
  • डायबिटीज को नियंत्रित करना आईसीएमआर द्वारा सुझाई गई प्रमुख रोकथाम विधियों में से एक है. इसलिए, कोरोना रोगी जो मधुमेह से पीड़ित हैं, उन्हें अत्यधिक सावधानी बरतने की आवश्यकता है.
  • स्वंम से ली गई दवायें और स्टेरॉयड की अधिक खुराक के परिणामस्वरूप Black fungus घातक हो सकती हैं और इसलिए बेहतर है की डॉक्टर के सुझाव का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए.
  • ऑक्सीजन थेरेपी पर रोगियों के लिए, यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि ह्यूमिडिफायर में पानी साफ हो और नियमित रूप से रिफिल किया जाए. यह सुनिश्चित करने के लिए ध्यान दिया जाना चाहिए कि पानी का रिसाव न हो (गीली सतहों पर कवक उत्पन्न हो सकता है).
  • मरीजों को अपने हाथों के साथ-साथ शरीर को भी साफ रखते हुए उचित स्वच्छता बनाए रखनी चाहिए.

ब्लैक फंगस से कैसे बचे | How to prevent from black fungus?

Black fungus को रोकने के लिए कुछ निवारक उपाय अपनाने की आवश्यकता है:

  • धूल भरे निर्माण स्थलों पर जाते समय मास्क का प्रयोग करें.
  • मिट्टी (बागवानी), काई या खाद पर काम करते समय जूते, लंबी पतलून, लंबी बांह की कमीज और दस्ताने पहनें.
  • पूरी तरह से साफ़ स्नान सहित व्यक्तिगत स्वच्छता बनाए रखें.
  • डायबिटीज को नियंत्रित रखें, इम्यूनोमॉड्यूलेटिंग दवाओं [Immunomodulating drugs] को बंद करने, स्टेरॉयड को कम करें.

स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कहा कि अगर Black Fungus को अनुपचारित छोड़ दिया जाए, तो इससे ग्रसित 80% लोगों की मौत हो सकती है.

यदि जल्दी पता नहीं लगाया जाता है, तो black fungus आंख और मुंह को बुरी तरह प्रभावित करता है, जिसके परिणामस्वरूप लोगों को इलाज के दौरान अपनी दृष्टि या जबड़े खोना पड़ सकता है.

Further readings

2 thoughts on “Black Fungus: Symptoms and Treatments in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *