Burning Issues
Is Organic food really organic!

Is Organic food really organic!

Organic food के प्रति लोगों का रुझान पिछले दो दशकों में बड़ी तेजी से बढ़ी है. इसका मुख्य कारण लोगों के जीवनशैली में हो रहे बदलाव को माना जा सकता है.

पिछले कुछ वर्षों के दौरान ज्यादातर लोगों के खान-पान व्यवहार में द्रुत परिवर्तन हुए फलस्वरूप विभिन्न स्वास्थ्यगत समस्याऐ उभर कर आई.   

यही कारण है कि आज Organic food विश्वपटल पर एक ज्वलंत मुद्दा बना हुआ है और हर कोई जैविक उत्पाद, जैविक खाद्य तथा जैविक आधारित व्यवहार की बात कर रहा है.

एक रिपोर्ट की माने तो, अमेरिकी उपभोक्ताओं के द्वारा 2014 में जैविक उत्पादों पर 39.1 बिलियन डॉलर खर्च किए गए.

अधिकतर लोग सोचते हैं कि हमारे नियमित भोजन की तुलना में जैविक खाद्य अधिक सुरक्षित, स्वास्थ्यवर्धक और स्वादिष्ट है. वहीं कुछ लोगों का मानना है कि यह पर्यावरण और पशुओं की भलाई के लिए बेहतर है.

इस लेख में हम जैविक और गैर-जैविक खाद्य पदार्थों की निष्पक्ष रूप से चर्चा करेंगे.

ऑर्गेनिक फूड का अर्थ | Meaning of Organic Food

यहाँ ‘Organic food’ शब्द का तात्पर्य उस प्रक्रिया से है जिसमें खाद्य पदार्थों का उत्पादन कृत्रिम रसायनों, हार्मोन, एंटीबायोटिक दवाओं या आनुवंशिक रूप से संशोधित जीनों के उपयोग के बिना किया जाता है.

विभिन्न खाद्य उत्पादों का कार्बनिक लेबल होने के लिए, खाद्य योजकों [food additives] जैसे कि, कृत्रिम मिठास, संरक्षक तत्व, रंग, स्वाद और मोनोसोडियम ग्लूटामेट [MSG] आदि से मुक्त होना प्राथमिक और अतिआवश्यक शर्त है.

जब हम Organic farming की बात करते है तो इसमें पौधों की वृद्धि को बेहतर बनाने के लिए कार्बनिक खाद का उपयोग करते हैं, जो सूक्ष्म जीवों के द्वारा कार्बनिक अपशिष्टों के विघटन से प्राप्त होता है.

इसी प्रकार पशु-पक्षियों को भी रासायनिक आधारित एंटीबायोटिक या हार्मोन दिए बिना ही पाला जाते हैं.

इस समय सबसे अधिक खरीदे गए जैविक खाद्य उत्पादों में फल, सब्जियां, अनाज, डेयरी उत्पाद और मांस शामिल है. कुछ प्रोसेस्ड ऑर्गेनिक उत्पाद भी बाज़ारों में उपलब्ध हैं, जैसे सोडा, कुकीज और नाश्ते लिए के अनाज.

ऑर्गेनिक फूड में पोषक तत्वों का स्तर | Nutrients level in Organic Food

खाद्य विश्लेषकों के द्वारा किये गये कार्बनिक और गैर-कार्बनिक खाद्य पदार्थों में पाए जाने वाले पोषक तत्वों की तुलनात्मक अध्ययन ने मिश्रित परिणाम प्राप्त हुए.

प्राकृतिक रूप से दोनों में यह भिन्नता उत्पादन और हैंडलिंग की विधि के कारण प्राप्त होते है. फिर भी काफी हद तक इन खाद्य पदार्थों को व्यवस्थित रूप से उगाए जाने से इनकी पौष्टिकता अधिक होती है.

आर्गेनिक फ़ूड में एंटीऑक्सिडेंट और विटामिन की मात्रा अधिक | It Have More Antioxidants and Vitamins

कई अध्ययनों में पाया गया है कि organic food में आमतौर पर उच्च स्तर के एंटीऑक्सिडेंट और कुछ सूक्ष्म पोषक तत्व जैसे Vit C, जिंक और आयरन होते हैं.

अध्ययन यह भी बताता है कि अजैविक फल, सब्जियों और अनाज की जगह जैविक फ़ूड का सेवन आहार में अतिरिक्त एंटीऑक्सिडेंट उपलब्ध करा सकते हैं.

Organic farming में उगाए गए पौधों पर रासायनिक कीटनाशक का छिड़काव नही किया जाता बल्कि ऐसे पौधे स्वयं के द्वारा उत्पादित एंटीऑक्सिडेंट का उपयोग करके अपनी रक्षा कर सकते है.

नाइट्रेट की मात्रा कम | Lower nitrate levels present in organic food

ऐसे पौधे जो ऑर्गेनिक रूप से उगाई गई हो उनमें नाइट्रेट का स्तर निम्न पाए जाता है जो कि 30% तक कम हो सकता है. उच्च नाइट्रेट स्तर से कुछ प्रकार के कैंसर होने के जोखिम बढ़ जाते है..

नाइट्रेट, शिशुओं में होने वाली एक मेटहेमोग्लोबिनेमिया [Methemoglobinemia] नामक बीमारी से भी जुड़ी हुई हैं, जो शरीर में ऑक्सीजन ले जाने की क्षमता को प्रभावित करती है.

organic food
Image by Pexels from Pixabay

आर्गेनिक फ़ूड से स्वास्थ्य लाभ | Health benefits

अब तक किये गए लैब अध्ययनों में पाया गया कि organic food में मौजूद उच्च एंटीऑक्सिडेंट मात्रा कोशिकाओं को नुकसान से बचाने में मदद करती है.

चूहों पर किये गए अध्ययनों से पता चलता है कि आर्गेनिक फ़ूड से विकास, प्रजनन और प्रतिरक्षा प्रणाली को फायदा हो सकता है.

मुर्गियों में किये गए एक अध्ययन में उन्हें जैविक आहार खिलाया जिसके फलस्वरूप  मुर्गियों का वजन कम हुआ साथ ही साथ इम्युनिटी सिस्टम मजबूत हुई.

मनुष्यों में अवलोकन आधारित अध्ययनों ने आर्गेनिक फ़ूड प्रोडक्ट को बच्चों और शिशुओं में एलर्जी तथा एक्जिमा के जोखिमों को कम होता देखा गया.

अभी इस क्षेत्र में अधिक उच्च गुणवत्ता वाले अध्ययन की आवश्यकता है जिससे आर्गेनिक तथा अनआर्गेनिक खाद्य पदार्थो का तुलनात्मक साथ ही साथ स्पष्ट परिणाम प्राप्त हो सके.

ऑर्गेनिक जंक फूड फिर भी हानिकारक | Organic junk food is still unhealthy

बाजारों में उपलब्ध किसी भी खाद्य उत्पाद को ‘Organic’ कह देने मात्र से वह Healthy नही हो सकती. ऐसे उत्पादों में कैलोरी, चीनी, नमक साथ ही अतिरिक्त वसा की मात्रा आपके अनुमान से अधिक हो सकती है.

हमारे आसपास बहुत से ऐसे उदाहरण मौजूद है जैसे, आर्गेनिक कुकीज़, चिप्स, सोडा और आइसक्रीम इत्यादि. यह सभी उत्पाद सुपरमार्केट में आसानी से देखे जा सकते हैं और ऐसे उत्पाद पूर्णतया organic food होने का दावा भी करती है.

यदि आप अपना वजन कम करने या स्वस्थप्रद भोजन खाने की कोशिश कर रहे हैं, तो इन खाद्य पदार्थों से खुद की दुरी बना लेना ही ज्यादा हितकर होगा.

दुसरे शब्दों में कहे तो, जब आप आर्गेनिक जंक फूड चुनते हैं, तो वह आर्गेनिक नही होता बल्कि अभी भी आप एक जंक फ़ूड ही खा रहे होते हैं.

आर्गेनिक फ़ूड की पहचान | How to identify before buying

USDA ने एक ऑर्गेनिक सर्टिफिकेशन प्रोग्राम स्थापित किया हुआ है, जो कि Organic Food Product बनाने और बेचने वाले किसी भी किसान या खाद्य उत्पादक को सरकार के सख्त मानकों को पूरा करना नितांत आवश्यक होता है.

यदि आप भारत के बाहर अमेरिकी देशों में आर्गेनिक फ़ूड का चयन करने का निर्णय लेते हैं, तो USDA की आर्गेनिक मुहर लगी चीजों को ही चुने.

इसके अलावा, खाद्य लेबल पर इन निम्न कथनों का अवलोकन आर्गेनिक फ़ूड के चयन में मदद कर सकती है:

  • 100% ऑर्गेनिक [100% Organic]: इसका तात्पर्य है कि यह उत्पाद पूरी तरह से ऑर्गेनिक अवयवों से बनाया गया है.
  • ऑर्गेनिक [Organic]: इस उत्पाद में कम से कम 95% आर्गेनिक तत्व होते हैं.
  • ऑर्गेनिक से बना [Made with Organic]: कम से कम 70% ऑर्गेनिक होते हैं.

यदि किसी उत्पाद में 70% से कम आर्गेनिक तत्व होते हैं, तो उसे कार्बनिक लेबल नहीं किया जा सकता या USDA Seal का उपयोग नहीं किया जा सकता है.

इसी तरह के मानकों को यूरोप, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया में भी लागू किया गया है. प्रत्येक देश या महाद्वीप की अपनी मुहर होती है ताकि उपभोक्ताओं को जैविक खाद्य की पहचान करने में मदद मिल सके.

निष्कर्ष | Conclusion

उपरोक्त तर्क के आधार पर यह माना जा सकता है कि आर्गेनिक फ़ूड स्वास्थ्यगत दृष्टी से लाभदायक होती है साथ ही इसे तैयार करने में अधिक धन और श्रम खर्च करना पड़ता है. चूँकि ऐसे खाद्य पदार्थों में रसायनों का उपयोग नही होता इसलिए यह तेजी से ख़राब होने लगते है.

इन्हें उपयोग हेतु खरीदना एक विकल्प है जिसे उपभोक्ता अपनी व्यक्तिगत प्राथमिकताओं और मूल्यों के आधार पर चयन कर सकता है.

More articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CommentLuv badge